ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय प्रादेशिक मन्डल जनपदीय तहसील ब्लॉक गाँव राजनैतिक अपराध
उत्तर प्रदेश परिवहन निगम लॉकडाउन खुलने के बाद अपने यात्रियों का स्वागत करने के लिए जोर दार तैयारियां कर रहा है :::आने वाले समय मे बहुत ही बदलाव दिखेंगे :::~~ राजशेखर
May 12, 2020 • Sun India Tv News चैनल • प्रादेशिक

उत्तर प्रदेश परिवहन निगम लॉकडाउन खुलने के बाद अपने यात्रियों का स्वागत करने के लिए धीरे-धीरे तैयार हो रहा है।लॉक डाउन खुलने के बाद , परिवहन निगम की प्राथमिक उद्देश्य COVID 19 से "यात्री सुरक्षा “ होगी। 

यात्रियों की सुरक्षा निम्न लिखित प्रकार से सुनिश्चित किया जाएगा :

1) सभी बसों का 100% sanitisation 

2) हर 6 घंटे में एक बार बस स्टेशनों की सफाई और sanitisation

3) हैवी ड्यूटी "ऑटोमैटिक थर्मल सेंसर कैमरा" के माध्यम से सभी यात्रियों के शरीर के तापमान को मापने के लिए मेजर बस स्टेशनों पर स्थापित किया जाएँगे।

4) बस स्टेशनों पर और बसों के अंदर भी सभी यात्रियों को हैंड सेनिटाइज़र की सुविधा उपलब्ध रहेगी ।

5) सभी यात्रियों के लिए "नो मास्क-नो ट्रैवल पॉलिसी" लागू होगी।

6) सभी ड्राइवर, कंडक्टर, बस स्टेशन के कर्मचारी अनिवार्य व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरणों के रूप में मास्क , hand sanitisers और दस्ताने का उपयोग करेंगे।
 
7) प्रत्येक दिन ड्यूटी ज्वाइन करने से पहले सभी कर्मचारियों के शरीर के तापमान को मापने के लिए थर्मल गन्स का उपयोग।

8) 5 सदस्य “COVID TASK FORCE” प्रत्येक बस स्टैड पर “सामाजिक दूरी” के अनुपालन को सुनिश्चित करने और बस स्टेशनों पर उपरोक्त उपायों को सुनिस्चित करने के साथ साथ दैनिक आधार पर UPSRTC को रिपोर्ट करने के लिए।

हेवी डूटी ऑटमाटिक temperature measuring कैमरा और कैमरा युक्त मेटल डिटेक्टर doors: 

1) "कैमरा युक्त टेम्परेचर सेंसर आधारित प्रवेश द्वार" का उपयोग सभी यूपीएसआरटीसी कार्यालयों और आरएम कार्यालय में भी किया जाएगा।

2) सभी प्रमुख बस स्टेशनों (जहां यात्रियों का भार प्रति दिन 5 हजार से अधिक है) को हेवी ड्यूटी ऑटोमैटिक टेम्परेचर मापने के लिए "सैन्सर बेस्ड टेम्परेचर मेज़रिंग कैमर्स" से लैस किया जाएगा, जो प्रति सेकंड 30 व्यक्तियों तक के तापमान को पकड़ सकता है। यह तस्वीरें भी कैप्चर करेगा और अलार्म और रेड लाइट चेतावनी द्वारा सचेत करेगा जहां शरीर का तापमान सामान्य सीमा से अधिक है।

3) सभी बस स्टेशनों के लिए "थर्मल बंदूकें" (4 प्रति बस स्टेशन) का उपयोग जहां प्रति दिन 5 हजार से कम यात्रियों की संख्या हो।

लॉक डाउन समाप्त होने के उपरांत उपरोक्त प्रयासों से परिवहन निगम समस्त यात्रियों की सफ़र को “सुरक्षित और आरामदायक” बनाने का प्रयास करेगा।