ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय प्रादेशिक मन्डल जनपदीय तहसील ब्लॉक गाँव राजनैतिक अपराध
उत्तर प्रदेश में ओलावृष्टि से प्रभावित लोगों की यथाशीघ्र की जाय समुचित मदद:::--- केशव प्रसाद मौर्य.उप मुख्यमंत्री
March 19, 2020 • Sun India Tv News चैनल • प्रादेशिक

उप मुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य ने उ0प्र0 सरकार की तीन वर्ष की उपलब्धियों पर डाला प्रकाश

उर्सला अस्पताल कानपुर में कोरोना आइसोलेशन सेन्टर का किया निरीक्षण

 

लखनऊ: दिनांक: 19 मार्च, 2020

उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य ने आज मर्चेन्ट चैम्बर हाल कानपुर नगर में आयोजित कार्यक्रम में वर्तमान सरकार की तीन वर्ष की उपलब्धियों पर विस्तार से प्रकाश डाला। उन्होंने वहां पर ओलावृष्टि से सम्बंधित दैवीय आपदाओं के सम्बंध में समीक्षा की और जिला प्रशासन की ओर से ग्राम चेतपुर खण्ड उत्तरी के 05 लाभार्थियों को आर्थिक सहायता भी प्रदान की। श्री मौर्य ने यू0एच0एम0 अस्पताल (उर्सला) में कोरोना आइसोलेशन सेन्टर एवं सम्बंधित तैयारियों का सघन निरीक्षण किया और सम्बंधित अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिये।

लखनऊ: दिनांक: 19 मार्च, 2020

उन्होंने उर्सला अस्पताल में स्थित आइसोलेशन वार्ड का निरीक्षण किया तथा मुख्य चिकित्सा अधिकारी सहित अन्य मेडिकल स्टाफ को निर्देशित किया कि दो शिफ्टों में कार्य करने हेतु स्टाफ की तैनाती की जाय, ताकि लोगों को कोई असुविधा न हो। उन्होंने कहा कि हेल्प डेस्क के माध्यम से मरीजों को सही सलाह दी जाय। उन्होंने कहा कि इस सम्बन्ध में जनजागरूकता पैदा की जाय। उन्होंने कहा कि कोरोना से बचाव ही सबसे अच्छा उपाय है। बताया कि कानपुर मे कोरोनाग्रस्त देशों के यात्रियों के क्वारेनटाइन हेतु 115 बेड आरक्षित किये गये हैं। 
श्री मौर्य ने आज प्रेसवार्ता के समय उ0प्र0 सरकार की तीन साल की उपलब्धियों पर प्रकाश डाला तथा सरकार की नीतियों व कार्यक्रमों पर भी विस्तार से प्रकाश डाला। उन्होंने कानपुर में तीन वर्ष में किये गये विकास कार्यों की चर्चा करते हुए कहा कि कानपुर में 239.53 करोड़ की लागत से 175 सड़कों का निर्माण कराया गया है, एवं 5465.92 लाख रू0 की लागत से जी0एस0वी0एम0 मेडिकल काॅलेज में 100 शैय्या के वैटरनिटी विंग सहित अन्य कार्य कराये गये हैं। कानपुर नगर में आयुष्मान भारत योजना के तहत 1.18 लाख लाभार्थियों को गोल्डन कार्ड दिये गये हैं। प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के अन्तर्गत 557.70 करोड़ की लागत से 10032 भवनों का निर्माण कराया गया। उन्होंने भारत सरकार व उ0प्र0 सरकार द्वारा संचालित अन्य योजनाओं पर भी विस्तार से प्रकाश डाला।