ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय प्रादेशिक मन्डल जनपदीय तहसील ब्लॉक गाँव राजनैतिक अपराध
उत्तर प्रदेश लोक निर्माण विभाग ने*पूर्वांचल विकास निधि से गोरखपुर की परियोजनाओं के लिए रू0 01 करोड़ 58 लाख 14 हजार की धनराशि*की अवमुक्त::--
October 17, 2019 • Sun India Tv News चैनल


*पूर्वांचल विकास निधि से गोरखपुर की परियोजनाओं के लिए अवमुक्त की गयी रू0 01 करोड़ 58 लाख 14 हजार की धनराशि*

*मिर्जापुर जनपद में लालगंज गैपुरा रामपुर घाट मार्ग के लिए रू0 02 करोड़ 39 लाख 78 हजार की धनराशि की गयी अवमुक्त*

श्री नितिन रमेश गोकर्ण,
प्रमुख सचिव, लो0नि0वि0

लखनऊ: दिनांक: 17 अक्टूबर, 2019

उ0प्र0 के उपमुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य के निर्देशों के क्रम में पूर्वान्चल विकास निधि (राज्यांश) के अन्तर्गत गोरखपुर की तीन परियोजनाओं के क्रियान्वयन हेतु वर्ष 2019-20 में रू0 01 करोड़ 58 लाख 14 हजार की धनराशि उ0प्र0 शासन द्वारा अवमुक्त की गयी है। प्रमुख सचिव, लोक निर्माण विभाग, उ0प्र0 ने बताया कि इन परियोजनाओं की कार्यदायी संस्था निर्माण खण्ड (भवन), लोक निर्माण विभाग, गोरखपुर है और इस सम्बन्ध में शासनादेश जारी कर दिया गया है। उन्होने बताया कि इन परियोजनाओं में विकास खण्ड भटकल के अन्तर्गत जंगल माधी तमेशर की दुकान से माफी टोला तक नहर पटरी पर सम्पर्क मार्ग, इसी विकास खण्ड में अकटहवा पिच रोड से असनहिया एवं बृजेश यादव के घर होते हुए मो0 बरवां तक सम्पर्क मार्ग तथा बी0एम0सी0टी0 से मल्लाहपुरवा तक सम्पर्क मार्ग का निर्माण है।

जारी शासनादेश में मुख्य विकास अधिकारी, गोरखपुर को निर्देशित किया गया है कि यह धनराशि केवल इन्ही परियोजनाओं पर मानक/विशिष्टियों के अनुरूप व्यय की जायेगी तथा इसका उपयोग अन्य किसी प्रयोजन के लिये नहीं किया जायेगा। इससे इतर व्यय वित्तीय अनियमितता होगी।

श्री नितिन रमेश गोकर्ण ने बताया कि पंडित दीन दयाल उपाध्याय योजना के अन्तर्गत तहसील/ब्लाक मुख्यालय को 02 लेन मार्गों से जोड़े जाने हेतु मार्गों का निर्माण/चैड़ीकरण/सुदृढ़ीकरण योजना से जनपद मिर्जापुर में लालगंज गैपुरा रामपुर घाट (अति0 जि0 मा0) के ब्लाक मुख्यालय तक चैड़ीकरण एवं सुदृढ़ीकरण कार्य की आंकलित लागत रू0 04 करोड़ 79 लाख 56 हजार की प्रशासकीय एवं वित्तीय स्वीकृति प्रदान करते हुए चालू वित्तीय वर्ष में लागत के सापेक्ष रू0 02 करोड़ 39 लाख 78 हजार की धनराशि निर्धारित शर्तों/प्रतिबन्धों सहित अवमुक्त की गयी है। जारी शासनादेश में प्रमुख अभियन्ता (विकास) एवं विभागाध्यक्ष, लोक निर्माण विभाग, उ0प्र0, लखनऊ को निर्देशित किया गया है कि स्वीकृत धनराशि का व्यय वित्तीय हस्त पुस्तिका के सुसंगत प्राविधानों व समय-समय पर शासन द्वारा जारी नियमों तथा शासनादेशों के अनुरूप किया जाय।