ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय प्रादेशिक मन्डल जनपदीय तहसील ब्लॉक गाँव राजनैतिक अपराध
पुनर्विचार याचिका दायर करेगी ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड,45 मेंबर आज की मीटिंग में शरीक हुए::--
November 17, 2019 • Sun India Tv News चैनल • जनपदीय

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल ला बोर्ड की मीटिंग में चारों महिला मेंबरान डॉ आसमा ज़हरा, निगहत परवीन खान, देहली की ममदुहा माजिद, आमना रिजवाना भी हुई शामिल।

 मौलाना वाली रहमानी, जलालुद्दीन उमरी, मौलाना अतीक बस्तवी, मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली, असदुद्दीन ओवैसी, मौलाना अरशद मदनी जमीयत उलेमा ए हिंद, जफरयाब जिलानी, फजलुररहीम मुजद्दीदी, ईटी मोहम्मद रशीद सांसद मुस्लिम लीग केरला, यासीन अली उस्मानी, सआदत उल्लाह हुसैनी जमात ए इस्लामी हिंद, आरिफ मसूद विधायक भोपाल समेत अन्य मेंबरान मौजूद रहे ।

 मौलाना राबे हसनी नदवी भी बैठक शुरू होने के बाद  मुमताज डिग्री कॉलेज पहुंचे थे जफरयाब जिलानी, महफूज उमरेन, इरशाद अहमद,QR  इलियास पीसी में पहुंचे।

जफरयाब जिलानी का बयान हम लोग रिव्यू रिटर्न फाइल करेंगे जो कोर्ट ने 5 एकड़ जमीन देने की बात कहीं उसको हम एक्सेप्ट नहीं करेंगे इसके शरई हम आपको अवगत करा दें।

16 दिसम्बर 1949 में बाबरी मस्जिद में आखिरी नमाज़ पढ़ी गई थी ये बात सुप्रीम कोर्ट भी मान चुकी है,मौलाना महफूज  मस्जिद के बदले में कोई भी चीज नहीं ली जा सकती शरीयत इस बात की इजाजत नहीं देता कि मस्जिद की जगह हम दूसरी जमीन ले सके।

कोर्ट ने ये भी माना था कि बाबरी मस्जिद का गिराया जाना असंवैधानिक था,कोर्ट ने माना है कि किसी मंदिर को तोड़कर बाबरी मस्जिद नहीं बनाई गई है।

कोर्ट के फैसले में कई खामियां देखते हुए हमने पुनर्विचार याचिका दायर करने का फैसला किया है,
हम बाबरी मस्जिद के लिए कोर्ट गए थे, ना कि मस्जिद के लिए 5 एकड़ जमीन लेने के लिए---कोर्ट ने ये भी माना है कि मस्जिद में मूर्ति चोरी या जबरदस्ती रखी गई थी----

5 एकड़ जमीन पर हमें ये कहना है कि शरई नुक्ते नजर से हम 5 एकड़ जमीन कबूल ना करें,क्योंकि एक बार जहां मस्जिद बन जाती है वहां मस्जिद हमेशा रहती है, उसे स्थानन्तरित नहीं किया जा सकता है, इसलिए हम 5 एकड़ जमीन लेने से इनकार करते हैं, और जहां तक कोर्ट द्वारा 5 एकड़ जमीन सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड को देने की बात है,
तो हमें लगता है कि सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड भी हमारे डिसीजन के साथ रहेगा क्योंकि वो भी सरई नियमों के खिलाफ नहीं जाएगा-----जफरयाब जिलानी

मौलाना महफूज रहमान, मोहम्मद उमर और मिसबाहुद्दीन तीन लोग रिव्यू पिटीशन फाइल करेंगे.हमारी इबादतगाह तबाह न हो   इसको लेकर रिविव पिटीशन दाखिल करेंगे जिला प्रशासन ने बैठक को रोकने की कोशिश की कल रात मुस्लिम पर्सनल ला बोर्ड के अध्यक्ष के पास जिले के तमाम अधिकारी गए थे।

नदवा कॉलेज में हम लोगों को बैठक नहीं करने दिया गया इसलिए बैठक को चेंज की करना पड़ा।