ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय प्रादेशिक मन्डल जनपदीय तहसील ब्लॉक गाँव राजनैतिक अपराध
लखनऊ ब्रेकिंग::-नागरिकता संशोधन अधिनियम को लेकर रक्षामंत्री ने लखनऊ में किया ‘महा जनसम्पर्क अभियान’:::--
January 5, 2020 • Sun India Tv News चैनल • राष्ट्रीय

लखनऊ ::नागरिकता संशोधन अधिनियम को लेकर चलाए जा रहे 'महा जनसम्पर्क अभियान' के अंतर्गत आज लखनऊ में जस्टिस (रिटा.) खेमकरण एवं डा. सुधीर श्रीवास्तव के घर दस्तक दी एवं उन्हें इस विषय से सम्बंधित एक पुस्तक भी भेंट की।यह अभियान इस क़ानून से जुड़ी भ्रांतियों को दूर करने के लिए चलाया जा रहा है::--

नागरिक संशोधन बिल पर भ्रम फैलाना बन्द होना चाहिए-राजनाथ सिंह
भारत ने हमेशा वसुधैव कुटुंबकम का संदेश दिया है:-रक्षामंत्री

लखनऊ 05 जनवरी 2020।

लखनऊ के सांसद/रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने नागरिक संशोधन अधिनियम को लेकर फैलाये जा रहे भ्रम के बारे में बोलते हुए कहा कि अब यह भ्रम फैलाना बन्द होना चाहिए। उन्होंने कहा कि हमारे प्रधानमंत्री व सरकार जाति धर्म या मजहब के आधार पर कोई भेदभाव नही करती है। भारत ने हमेशा वसुधैव कुटुंबकम का संदेश दिया है।
भारतीय जनता पार्टी द्वारा चलाये जा रहे नागरिक संशोधन अधिनियम सम्पर्क महाअभियान के अन्तर्गत सरोजनी नगर विधानसभा के आशियाना स्थित जस्टिस खेमकरन के आवास पर राजनाथ सिंह ने जस्टिस खेमकरन, जस्टिस भगवानदीन, जस्टिस ए.पी. सिंह, समाजसेवी रेखा त्रिपाठी, डॉ. जे.पी. गुप्ता, सुधीर कुमार पूर्व डी.आई.जी. सहित उपस्थित प्रबुद्ध वर्ग को नागरिक संशोधन अधिनियम पर पुस्तिका ''नागरिकता (संशोधन) अधिनियम-2019 एक परिचय'' एवं पत्रक ''नागरिकता संशोधन-2019 महत्तवपूर्ण बिन्दु'' भेंट करते हुए कहा कि आप सब आगे बढ़कर आयें और देश में फैले इस भ्रम को दूर करें, हमारी पार्टी के वरिष्ठ पदाधिकारी से लेकर बूथ अध्यक्ष तक आज से इस अभियान में लग गए हैं जो घर-घर जाकर लोगों को इस अधिनियम के विषय में जागरूक करेंगें, यह अधिनियम कतई किसी की नागरिकता लेने वाला नहीं है इस बिल से पाकिस्तान, बांग्लादेश, अफगानिस्तान के अल्पसंख्यक जो भारत में शरणार्थी के रूप मंे रह रहे हैं उनको नागरिकता देने का है। अब विपक्ष द्वारा देश में फैलाये जा रहे इस भ्रम को बन्द होना चाहिए। इस नागरिक संशोधन बिल को संसद के समक्ष 2019 में मेरे द्वारा ही रखा गया था जिसमें किसी भारतीय के हितों का कोई भी नुकसान नहीं है किसी जाति, धर्म व मजहब पर कोई प्रतिकूल प्रभाव नही पड़ेगा। यह अधिनियम पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान के अल्पसंख्यक जो धर्म के आधार पर प्रताड़ित किए गए जिनमें मुख्यतः हिन्दू, सिख, इसाई, जैन, बौद्ध, पारसी जनों को नागरिकता देने का प्राविधान है न कि किसी भारतीय से नागरिकता छीनने का। विपक्षियों द्वारा भ्रांति फैलायी जा रही है, राजनीति दलों पर सवाल उठाते हुये कहा कि क्या सच बोलकर राजनीति नही की जा सकती है और एक धर्म विशेष के लोगों को भड़काया जा रहा है किसी भी भारतीय नागरिक को भयभीत होने की तनिक भी आवश्यकता नहीं है। उन्होंने कहा कि 1971 की लड़ाई के बाद जो नागरिक भारत आये थे उन्हें भी नागरिकता दी गयी। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने भी वकालत की थी। अब अनावश्यक भ्रम फैलाया जा रहा है। रक्षामंत्री ने कहा कि सच्चा हिन्दुस्तानी जाति धर्म मजहब के आधार पर कोई भेदभाव नही करता है, उन्होंने कहा कि भारत में सिटीजन सिप एक्ट पहले से है जो भी भारत में 12 वर्ष रहता है उसे पहले भी नागरिकता दी जाती रही है। पिछले 6 वर्षों में तीन हजार लोगों को नागरिकता दी गयी है। इसमें तमाम मुस्लिम समुदाय के लोग भी हैं। 
 कैण्ट विधानसभा के सिंगारनगर में डॉ. सुधीर श्रीवास्तव के सन आई हास्पिटल में पहुँचकर राजनाथ सिंह ने डॉक्टर्स से संवाद किया और डॉ. सुधीर श्रीवास्तव, डॉ. विनीत अग्रवाल, डॉ. हरिकृष्ण मिश्रा, डॉ. अतुल रस्तोगी, डॉ. आशीष खरे, डॉ. नन्दिता, डॉ. पंकज श्रीवास्तव, डॉ. पी.के. पाण्डेय, डॉ. अभय मणि त्रिपाठी, डॉ. संतोष श्रीवास्तव, डॉ. धनंजय गुप्ता, दिलबाग सिंह, हरीश खत्री, संतराम चांदवानी, पारसनाथ सहित उपस्थित गणमान्य लोगों को पुस्तिका एवं पत्रक भेंटकर उनसे अपेक्षा की कि आप सब इसे पढ़कर लोगों को जागरूक करें आप सब ऐसा वर्ग हो जिनके पास जनता इलाज के लिए आती है और उस पर विश्वास करती है, अब आप सब इस भ्रम का भी इलाज करें और जनमानस के बीच सच्चाई पहुँचायें।

एक सवाल कि कुछ प्रबुद्ध वर्ग की टी.वी. मीडिया में आकर भ्रम फैला रहे हैं इसलिए लोग भ्रमित होते जा रहे हैं के जवाब में राजनाथ सिंह ने कहा ऐसे लोगों की संख्या बहुत कम है आप सब बहुत बड़ी संख्या में इस बिल के विषय में जानते हैं जब आप सब आगे बढ़कर इस भ्रम को दूर करेंगे कि यह बिल नागरिकता देने का है लेने का नही ंऔर भारतीय नागरिकों का इस अधिनियम से डरने की जरूरत नहीं है तब यह सारा भ्रम दूर हो जायेगा। 
 संपर्क के दौरान लखनऊ महानगर मुकेश शर्मा, उ.प्र. सरकार में मंत्री स्वाती सिंह, महापौर संयुक्ता भाटिया, नानक चन्द्र लखमानी, महानगर महामंत्री/अभियान संयोजक अंजनी श्रीवास्तव, उपाध्यक्ष विवेक तोमर, महानगर महामंत्री त्रिलोक अधिकारी, पुष्कर शुक्ला, मण्डल अध्यक्ष शिवशंकर विश्वकर्मा, बाबूलाल लोधी, पार्षद कमलेश सिंह, राकेश श्रीवास्तव सहित बड़ी संख्या में प्रबुद्धजन एवं गणमान्य उपस्थित रहे।