ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय प्रादेशिक मन्डल जनपदीय तहसील ब्लॉक गाँव राजनैतिक अपराध
गोवंशीय पशुओं की देखभाल और रखरखाव में शिथिलता न बरती जाय कोई भी शिकायत अथवा अनियमितता पाये जाने पर सख्त कार्यवाही की जाय -प्रमुख सचिव पशुधन श्री बी0एल0 मीणा
October 17, 2019 • Sun India Tv News चैनल

लखनऊ: दिनांक 16 अक्टूबर, 2019


प्रदेश के पशुधन, मत्स्य तथा दुग्ध विकास विभाग के प्रमुख सचिव श्री बी0एल0 मीणा ने गोवंशीय पशुओं की देखभाल और रखरखाव में शिथिलता न बरते जाने, मानकों का पूरा ध्यान रखे जाने, गोवंश संरक्षण के संबंध में जारी किये गये सभी दिशा-निर्देशों का नियमानुसार पालन किये जाने के निर्देश पशुधन विभाग को दिये हैं। उन्होंने कहा है कि जनपद स्तर के अधिकारी मौके पर जाकर गोवंशीय पशुओं के प्रबंधन का स्वयं स्थलीय निरीक्षण अवश्य करें। गोवंशीय पशुओं की देखभाल और रखरखाव संबंधी किसी भी शिकायत अथवा अनियमितता पाये जाने पर संबंधित के विरुद्ध सख्त कार्यवाही की जायेगी।

प्रमुख सचिव बी0एल0 मीणा आज यहां योजना भवन में वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से पशुधन, मत्स्य एवं दुग्ध विकास विभाग के जनपदीय अधिकारियों से वार्ता कर रहे थे। उन्होंने विभागीय अधिकारियों सेे प्रत्येक जनपद की वित्तीय स्थिति, व्यय एवं संचालित योजनाओं की प्रगति की अद्यतन जानकारी लेते हुए कतिपय जनपदों में संतोषजनक कार्य न पाये जाने पर अप्रसन्नता व्यक्त करते हुए यथाशीघ्र सुधार लाये जाने के कड़े निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि विभिन्न योजनाओं में जो धनराशि आवंटित की गई है उसका नियमानुसार उपयोग करने के साथ ही उपयोगिता प्रमाण पत्र शासन को शीघ्र उपलब्ध कराया जाय

श्री मीणा ने पशुधन विभाग के अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि मण्डल एवं जनपद स्तर पर आयोजित किये जाने वाले पं0 दीनदयाल उपाध्याय पशु आरोग्य मेलों के माध्यम से पशुपालकों को पशुपालन की सुविधाएं उपलब्ध करायी जाये तथा टीकाकरण कार्यक्रमों में गति लायी जाय। उन्होंने मत्स्य विभाग के अधिकारियों से तालाबों के रखरखाव एवं मत्स्य उत्पादन बढ़ाये जाने को कहा। प्रमुख सचिव ने दुग्ध विकास विभाग के अधिकारियों से दुग्ध उत्पादन के लिए पशुपालकों को प्रोत्साहित करने एवं दुग्ध उत्पादन में और वृद्धि किये जाने के निर्देश दिये।

बैठक में पशुधन विभाग के निदेशक (प्रशासन एवं विकास) श्री ओ0पी0 सिंह, निदेशक (रोग नियंत्रण एवं प्रक्षेत्र) श्री एस0के0 श्रीवास्तव, संयुक्त निदेशक डा0 अरविन्द कुमार, मत्स्य विभाग के निदेशक श्री एस0के0 सिंह तथा दुग्ध विकास विभाग के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।