ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय प्रादेशिक मन्डल जनपदीय तहसील ब्लॉक गाँव राजनैतिक अपराध
ब्रेकिंग 👉पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने ली अंतिम सांस दिल्ली के आर्मी अस्पताल में हुआ निधन उत्तर प्रदेश की राज्यपाल, मुख्यमंत्री सहित तमाम राजनेताओं ने शोक व्यक्त किया ::=पढे विस्तार से खबर
August 31, 2020 • Sun India Tv News चैनल • प्रादेशिक

:👉 दिल्ली-श्री प्रणव मुखर्जी के सम्मान में देश में सात दिन का राष्ट्रीय शोक रहेगा...

देश के सुविख्यात अर्थशास्त्री, सुचिता की राजनीति के पक्षधर पूर्व राष्ट्रपति श्री प्रणव मुखर्जी जी के निधन की खबर बेटे अभिजीत ने ट्वीट के माध्यम से दी ,पूर्व राष्ट्रपति श्री प्रणव मुखर्जी जी के निधन से देश को अपूर्णीय क्षति हुई हैं। 

 

मोहन भागवत ने कहा कि प्रणब मुखर्जी आरएसएस के लिए मार्गदर्शक की तरह थे और हमारे प्रति उनका स्नेह था। उनके निधन से संघ को अपूरणीय क्षति हुई है.

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का निधन देश के आर्थिक एवं राजनैतिक क्षेत्र के लिए एक अपूरणीय क्षति - आनंदीबेन पटेल

-----लखनऊः 31 अगस्त, 2020

   उत्तर प्रदेश एवं मध्य प्रदेश की राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने पूर्व राष्ट्रपति भारत रत्न श्री प्रणब मुखर्जी के निधन पर गहरा दुःख व्यक्त किया है।

राज्यपाल ने अपने शोक संदेश में कहा है कि महान व्यक्तित्व एवं कृतित्व के धनी श्री प्रणब मुखर्जी को आर्थिक मामलों के विशेषज्ञ के रूप में प्रसिद्धि प्राप्त थी। उन्होंने देश के 13वें राष्ट्रपति के रूप में अनेक ऐतिहासिक एवं नीतिगत निर्णय लिए। राज्यपाल ने कहा कि ऐसे महान व्यक्ति का निधन वास्तव में देश के आर्थिक एवं राजनैतिक क्षेत्र के लिए एक अपूरणीय क्षति है। 

श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने दिवंगत आत्मा की शांति की कामना करते हुए शोकाकुल परिजनों के प्रति गहरी संवेदना एवं सहानुभूति व्यक्त की है।

:👉 प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पूर्व राष्ट्रपति श्री प्रणब मुखर्जी के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। आज एक शोक सन्देश में मुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्व राष्ट्रपति श्री प्रणब मुखर्जी एक वरिष्ठ एवं अनुभवी राजनेता थे। राष्ट्र के प्रति श्री मुखर्जी की सेवाओं के दृष्टिगत उन्हें देश का सर्वोच्च सम्मान ‘भारत रत्न’ प्रदान किया गया था।

श्री प्रणब मुखर्जी के व्यक्तित्व को प्रेरक बताते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि वे एक सौम्य और मृदुभाषी नेता थे, जिनका सभी सम्मान करते थे। अपने लम्बे सार्वजनिक जीवन में श्री मुखर्जी ने विभिन्न उच्च पदों पर रहते हुए दायित्वों का कुशलतापूर्वक निर्वहन किया। श्री प्रणब मुखर्जी सार्वजनिक जीवन में शुचिता, पारदर्शिता और स्पष्टवादिता की प्रतिमूर्ति थे। उनके निधन से राष्ट्र को अपूरणीय क्षति हुई है