ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय प्रादेशिक मन्डल जनपदीय तहसील ब्लॉक गाँव राजनैतिक अपराध
ब्रेकिंग लखनऊ 👉मुख्यमंत्री ने ‘विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना’ के तहत टूल किट व प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के अन्तर्गत ऋण वितरण कार्यक्रम को किया सम्बोधित::==पढे विस्तार से खबर
September 17, 2020 • Sun India Tv News चैनल • प्रादेशिक

अर्थव्यवस्था और समाज की व्यवस्था के लिए महत्वपूर्ण विभिन्न टेªडों के हस्तशिल्पियों व कारीगरों तथा अन्य पारम्परिक उद्योगों से जुड़े लोगों को वर्तमान सरकार ने समाज की मुख्य धारा में लाने का सफल प्रयास किया: मुख्यमंत्री

राज्य सरकार ने ‘विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना’ तथा ‘एक जनपद एक उत्पाद’ योजना लागू की, जिसमें बड़ी संख्या में लोगों को लाभान्वित कियापारम्परिक हस्तशिल्पी व कारीगर जब खुशहाल व समृद्ध होंगे, तभी समाज खुशहाल होगा और अर्थव्यवस्था सुदृढ़ होगी 

वित्तीय समावेशन के साथ कारीगरों व हस्तशिल्पियों को जोड़े जाने से आत्मनिर्भर भारत अभियान को मजबूती मिलेगी मुख्यमंत्री ने प्रतीक स्वरूप 10 लाभार्थियों को टूल किट तथा मुद्रा ऋण बैंक स्वीकृत पत्रों का वितरण किया‘विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना’ में 03 नई श्रेणियों-भड़भूजा, धोबी तथा शिल्पकार को भी सम्मिलित किया गया

‘विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना’ तथा मुद्रा योजना के तहत 4,500 लाभार्थियों को लगभग 60 करोड़ रुपए का ऋण वितरित किया गया मुख्यमंत्री ने वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से विभिन्न जनपदों के लाभार्थियों के साथ संवाद किया एम0एस0एम0ई0 क्षेत्र के विकास के लिए उ0प्र0 सरकार और सिडबी के बीच एम0ओ0यू0 का आदान-प्रदानपारम्परिक हस्तशिल्पी व कारीगर समाज की मुख्य धारा से जुड़कर आत्मनिर्भर व स्वावलम्बी बन रहे हैंनई पहल करते हुए प्रशिक्षण एवं टूल किट प्राप्त कर चुके लाभार्थियों को प्रधानमंत्री मुद्रा योजना से जोड़ा जा रहा है

लखनऊ 17 सितम्बर 2020 

 उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा है कि अर्थव्यवस्था और समाज की व्यवस्था के लिए महत्वपूर्ण विभिन्न टेªडों के हस्तशिल्पियों, कारीगरों तथा अन्य पारम्परिक उद्योगों से जुड़े लोगों को वर्तमान सरकार ने समाज की मुख्य धारा में लाने का प्रयास किया है। पहले यह लोग उपेक्षित थे। उनके पास हुनर था, लेकिन मंच नहीं था। कौशल था, लेकिन प्रोत्साहन नहीं था। राज्य सरकार ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी की प्रेरणा से ‘विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना’ तथा ‘एक जनपद एक उत्पाद’ योजना लागू की, जिसमें बड़ी संख्या में लोगों को लाभान्वित किया गया। उन्होंने कहा कि पारम्परिक हस्तशिल्पी व कारीगर जब खुशहाल व समृद्ध होंगे, तभी समाज खुशहाल होगा और अर्थव्यवस्था सुदृढ़ होगी। उन्होंने कहा कि वित्तीय समावेशन के साथ कारीगरों व हस्तशिल्पियों को जोड़े जाने से आत्मनिर्भर भारत अभियान को मजबूती मिलेगी।

     मुख्यमंत्री जी आज यहां अपने सरकारी आवास पर ‘विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना’ के तहत टूल किट व प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के अन्तर्गत ऋण वितरण कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे थे। इस अवसर पर उन्होंने प्रतीक स्वरूप 10 लाभार्थियों को टूल किट तथा मुद्रा ऋण बैंक स्वीकृत पत्रों का वितरण किया। पूरे प्रदेश में ‘विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना’ तथा मुद्रा योजना के तहत 4,500 लाभार्थियों को 60 करोड़ रुपए का ऋण वितरित किया गया। मुख्यमंत्री जी ने विभिन्न जनपदों के लाभार्थियों के साथ वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संवाद भी किया। इस अवसर पर एम0एस0एम0ई0 क्षेत्र के विकास के लिए उत्तर प्रदेश सरकार और सिडबी के बीच एम0ओ0यू0 का आदान-प्रदान किया गया।

     मुख्यमंत्री जी ने भगवान विश्वकर्मा की जयन्ती तथा प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के जन्मदिन पर सभी को बधाई देते हुए कहा कि ‘विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना’ के माध्यम से प्रशिक्षित हुए लाभार्थियों को प्रशिक्षण प्रमाण-पत्र, टूल किट तथा स्वरोजगार स्थापना के लिए प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के अन्तर्गत ऋण वितरण का कार्यक्रम सराहनीय है। उन्होंने कहा कि भगवान विश्वकर्मा विश्व के शिल्पी के रूप में जाने जाते हैं। उनकी जयन्ती के अवसर पर कारखानों और वर्कशाॅप्स में कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। यह कार्यक्रम पूजा व श्रद्धा के अलावा ‘आत्मनिर्भर भारत अभियान’ को और बल दे सकें, इस उद्देश्य से आज का यह कार्यक्रम आयोजित किया गया। उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी जी की 150वीं जयन्ती के उपलक्ष्य में इस कार्यक्रम के माध्यम से ग्राम स्वराज्य की संकल्पना भी साकार हो रही है। यह कार्यक्रम भारत को समर्थ, सशक्त व आत्मनिर्भर बनाने का प्रतीक है।  

      मुख्यमंत्री जी ने कहा कि पारम्परिक हस्तशिल्पी व कारीगर समाज की मुख्य धारा से जुड़कर आत्मनिर्भर व स्वावलम्बी बन रहे हैं। शहरी व ग्रामीण क्षेत्र के पारम्परिक कारीगर जैसे बढ़ई, दर्जी, टोकरी बुनकर, नाई, सुनार, लोहार, कुम्हार, हलवाई, मोची एवं राज मिस्त्री की आजीविका के साधनों का सुदृढ़ीकरण ‘विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना’ के माध्यम से किया जा रहा है। पहले से विद्यमान शिल्पियों की श्रेणी में 03 नई श्रेणियों-भड़भूजा, धोबी तथा शिल्पकार को भी सम्मिलित किया गया है। कारीगरों की कौशल वृद्धि के लिए प्रशिक्षण प्रदान करने के उपरान्त उन्हें टूल किट वितरित की जाती है।

       मुख्यमंत्री जी ने कहा कि नई पहल करते हुए प्रशिक्षण एवं टूल किट प्राप्त कर चुके लाभार्थियों को प्रधानमंत्री मुद्रा योजना से जोड़ा जा रहा है, ताकि हमारे प्रतिभाशाली कारीगर अपना व्यवसाय स्थापित करते हुए अन्य लोगों को भी रोजगार दे सकें। उन्होंने कहा कि ‘विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना’ के अन्तर्गत वर्ष 2019-2020 में 19,938 कारीगरों को विभिन्न टेªडों में प्रशिक्षण प्राप्त करते लाभान्वित कराया गया। इस योजना के अन्तर्गत वर्तमान वित्तीय वर्ष में अब तक 01 लाख 12 हजार 889 आवेदकों ने आवेदन किया है, जिसमें से 20 हजार पारम्परिक कारीगरों को प्रशिक्षण कराया जा चुका है। शेष आवेदकों को भी इसी वर्ष प्रशिक्षण दिलाया जाएगा। इस वर्ष के आवेदकों में प्रदेश वापस आए श्रमिक भी शामिल हैं।

      मुख्यमंत्री जी ने कहा कि ‘मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना’ के अन्तर्गत लाभार्थियों को मार्जिन मनी का लाभ दिया जा रहा है। ‘विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना’ के सफल क्रियान्वयन में बैंक भी पूरा सहयोग प्रदान कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि ‘विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना’ के तहत राज्य सरकार द्वारा जितने भी प्रार्थना-पत्र प्रस्तुत किए जाएंगे, ऐसे सभी आवेदकों को प्रधानमंत्री मुद्रा योजना से लाभान्वित किया जाए। स्टेट लेवल बैंकर्स समिति इस दिशा में कार्यवाही करते हुए आसानी से ऋण उपलब्ध कराए। उन्होंने कहा कि एम0एस0एम0ई0 तथा ओ0डी0ओ0पी0 के तहत भी ऋण उपलब्ध कराए जाएं। इससे कारीगर व हस्तशिल्पी लाभान्वित होंगे। साथ ही, अर्थव्यवस्था भी सुदृढ़ होगी। उन्होंने कहा कि बैंकों द्वारा प्रत्येक जनपद में इन योजनाओं के तहत ऋण का लक्ष्य निर्धारित कर उसे पूरा किया जाए। यह कारीगरों व हस्तशिल्पियों के स्वावलम्बन और आत्मनिर्भरता का आधार बनेगा तथा ग्रामीण भारत को नई पहचान मिलेगी। उन्होंने कहा कि हस्तशिल्पियों व कारीगरों को डिजिटल पेमेन्ट के साथ जोड़ा जाए।  

     मुख्यमंत्री जी ने कहा कि एम0एस0एम0ई0 के तहत 20 लाख इकाइयों को ऋण वितरित किया जाएगा। केन्द्र सरकार के आर्थिक पैकेज के तहत प्रदेश के 10 लाख ‘स्ट्रीट वेण्डर्स’ को लाभान्वित कराने का लक्ष्य रखते हुए कार्ययोजना बनायी जाए। उन्होंने स्टेट बैंक आॅफ इण्डिया द्वारा स्वास्थ्य सेवाओं को सुदृढ़ करने के लिए 05 एम्बुलेंस उपलब्ध कराए जाने पर धन्यवाद देते हुए कहा कि इस समय अनलाॅक व्यवस्था के चैथे चरण से हम सभी गुजर रहे हैं। आर्थिक और विकास की गतिविधियां संचालित हो रही हैं। ऐसे में, कोविड-19 के दृष्टिगत सावधानी व सतर्कता बरतते हुए कार्य किया जाए। सर्विलांस और काॅन्टैक्ट टेªसिंग पर फोकस किया जाए।

      मुख्यमंत्री जी ने वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जनपद आगरा के श्री गजेन्द्र सिंह (बढ़ई), जनपद झांसी की सुश्री नीतू (सुनार), जनपद बिजनौर के श्री उदित कुमार राजपूत (हलवाई) तथा जनपद भदोही के श्री प्रमोद कुमार (हलवाई), जनपद वाराणसी के लाभार्थी (कुम्हार), जनपद गाजियाबाद के श्री महेश कुमार (कुम्हार) से संवाद किया। लाभार्थियों ने मुख्यमंत्री जी को अवगत कराया कि उन्हें ‘विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना’ के तहत प्रशिक्षण एवं टूल किट प्राप्त हो चुकी है। प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत ऋण भी उपलब्ध हुआ है। मुख्यमंत्री जी ने लाभार्थियों को बधाई व शुभकामनाएं दीं।

       इस अवसर पर एम0एस0एम0ई0 मंत्री श्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि मुख्यंमत्री जी के कुशल मार्गदर्शन व नेतृत्व में एम0एस0एम0ई0 सेक्टर को नई ऊंचाइयों तक ले जाया जाएगा। इसी दिशा में कार्य किया जा रहा है। प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत बड़ी संख्या में विभिन्न टेªडों से जुड़े लोगों को लाभान्वित किया जाएगा।

        एम0एस0एम0ई0 राज्य मंत्री श्री चैधरी उदय भान सिंह ने मुख्यंमत्री जी के प्रति आभार व धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा कि भारत की संस्कृति और परम्परा से जुड़ते हुए आत्मनिर्भर बनने की दिशा में ‘विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना’ तथा ओ0डी0ओ0पी0 योजना महत्वपूर्ण साबित हो रही है। एम0एस0एम0ई क्षेत्र का योगदान भारत को आत्मनिर्भर बनाएगा।

        इस अवसर पर विभिन्न बैंकों के अधिकारीगणों ने आश्वस्त किया कि एम0एस0एम0ई0 की 20 लाख इकाइयों को ऋण वितरित किया जाएगा। ओ0डी0ओ0पी0 योजना के तहत बैंकों द्वारा निरन्तर सहयोग किया जा रहा है।

       इस अवसर पर मुख्य सचिव श्री आर0के0 तिवारी, अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त श्री आलोक टण्डन, कृषि उत्पादन आयुक्त श्री आलोक सिन्हा, अपर मुख्य सचिव वित्त श्री संजीव मित्तल, अपर मुख्य सचिव एम0एस0एम0ई0 श्री नवनीत सहगल सहित विभिन्न बैंकों के महाप्रबन्धक व प्रबन्धक उपस्थित थे