ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय प्रादेशिक मन्डल जनपदीय तहसील ब्लॉक गाँव राजनैतिक अपराध
ब्रेकिंग 👉हम सब नये प्रयास के साथ अयोध्यापुरी के विकास की नई रूपरेखा तैयार कर रहे::==मुख्यमंत्री
August 22, 2020 • Sun India Tv News चैनल • प्रादेशिक

प्रधानमंत्री के नेतृत्व में देश मजबूती से कोरोना से लड़ रहा है, 

देश की इस लड़ाई में उ0प्र0 अपनी प्रमुख भूमिका के साथ सामने आएगा उ0प्र0 ने बेहतर टीम वर्क के माध्यम से कोरोना पर नियंत्रण स्थापित किया उ0प्र0 श्रमिकों, स्ट्रीट वेण्डर्स और गरीबों के लिए राहत की घोषणा करने वाला पहला राज्य 

34 लाख से अधिक निर्माण श्रमिक, स्ट्रीट वेण्डर्स, पल्लेदार, कुली को भरण पोषण भत्ता देने का कार्य प्रारम्भ किया गयाअलग-अलग राज्यों से 36 लाख से अधिक कामगार और मजदूर सुरक्षित आयेकोरोना काल खण्ड में उ0प्र0 पहला राज्य था, जिसने किसानों को किसी भी समस्या से बाधित नहीं होने दिया

पूर्वान्चल एक्सप्रेस-वे का काम तय समय-सीमा में पूरा होगा डिफेन्स काॅरिडोर का काम तय समय-सीमा के अन्दर तेजी के साथ आगे बढ़ रहा मेरठ से प्रयागराज तक गंगा एक्सप्रेस-वे का कार्य राज्य सरकार अपने स्तर पर करा रही, भारत सरकार से मेरठ को हरिद्वार तक तथा प्रयागराज को काशी तक इस एक्सप्रेस-वे से जोड़ने का अनुरोध

आत्मनिर्भर भारत की परिकल्पना का आधार उ0प्र0 में ओ0डी0ओ0पी0 योजना बनेगीकोविड-19 से भी लड़ना है, बाढ़ से भी लड़ना है, हर प्रकार की आपदा से लड़कर हमें विजयश्री का वरण करना हैअपराधियों से तो उ0प्र0 को पहले ही बचाया जा चुका, इसे और भी मजबूती के साथ बचाने का कार्य किया जाएगा

लखनऊ: 22 अगस्त, 2020

 उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने आज यहां विधानसभा में कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में देश मजबूती से कोरोना से लड़ रहा है। कोरोना के खिलाफ देश की इस लड़ाई में उत्तर प्रदेश अपनी प्रमुख भूमिका के साथ सामने आएगा। आज हर व्यक्ति प्रदेश की इस भूमिका को स्वीकार करता है। 

 मुख्यमंत्री जी ने कहा कि हम सब वैश्विक महामारी से लड़ रहे हैं और लड़ेंगे। सभी मा0 सदस्यों ने कोविड-19 के दृष्टिगत पूर्ण सहयोग कर अभूतपूर्व कार्य किया है। उन्होंने कहा कि सभी के सहयोग से देश के अंदर सबसे बड़ी आबादी वाला राज्य अपने यहां कोरोना को काफी हद तक नियंत्रित करने में सफल रहा है। हमारे सामने अयोध्या में श्रीराम मन्दिर निर्माण की कार्यवाही एक अभूतपूर्व घटना है और इस अभूतपूर्व घटना को आने वाले समय के लिए और भी स्मरणीय बनाने के लिए हम सब उस दिशा में एक नये प्रयास के साथ अयोध्यापुरी के विकास की नई रूपरेखा तैयार कर रहे हैं।

 मुख्यमंत्री जी ने कहा कि यह सदन ऐसे समय में चल रहा है, जब पूरी दुनिया कोविड-19 की वैश्विक महामारी से जूझ रही है। साथ ही, यह सदन उन परिस्थितियों में हो रहा है, जब देश के अन्दर के ऐतिहासिक निर्णय को लेकर पूरी दुनिया के अन्दर एक नयी उमंग है, एक नया उत्साह है। 

 मुख्यमंत्री जी ने कहा कि पूरी दुनिया इस वैश्विक महामारी से त्रस्त है। अर्थव्यवस्था पर इसका असर व्यापक पैमाने पर पड़ा है। इस वैश्विक महामारी से उत्तर प्रदेश पूरी मजबूती के साथ लड़ रहा है। आंकड़े बताते हैं कि उत्तर प्रदेश देश के अन्य राज्यों की तुलना में काफी बेहतर है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश की आबादी 23 करोड़ 78 लाख है और इसके अन्दर कुल 01 लाख 72 हजार पाॅजिटिव केस हैं, 48 हजार सक्रिय केस हैं, 01 लाख 21 हजार उपचारित हुए हैं, 2700 लोगों की मृत्यु हुई है, कुल 41 लाख 84 हजार 900 टेस्ट हुए हैं। हमारे पास प्रति 10 लाख की आबादी पर कुल 744 केस हैं, मृत्यु प्रति 10 लाख की आबादी पर पर 12 हैं और मृत्यु दर 1.6 प्रतिशत है। यह देश के अन्दर न्यूनतम मृत्यु दर है। 

 मुख्यमंत्री जी ने कहा कि दिल्ली की कुल आबादी 01 करोड़ 80 लाख हैै दिल्ली में कुल 01 लाख 56 हजार पाॅजिटिव केस हैं। 4,233 मृत्यु हुई हैं, जो उत्तर प्रदेश के 2,700 की तुलना में काफी अधिक है। आज उत्तर प्रदेश न्यूनतम मृत्यु दर के साथ कोरोना की लड़ाई को लड़ रहा है। अमेरिका की कुल आबादी 32 करोड़ 72 लाख हैै। वहां पर कुल 57 लाख पाॅजिटिव केस हैं, 24 लाख 62 हजार सक्रिय केस हैं, 01 लाख 76 हजार मृत्यु हुई हंै, प्रति 10 लाख पर 17209 केस हैं, प्रति 10 लाख पर 532 मृत्यु हंै। अमेरिका दुनिया की सबसे बड़ी सामरिक ताकत के साथ-साथ आर्थिक ताकत भी है। इसी प्रकार ब्राजील की आबादी 20 करोड़ 95 लाख है। इनके यहां कुल 34 लाख 60 हजार पाॅजिटिव केस हैं, 07 लाख 33 हजार सक्रिय केस हैं, 01 लाख 11 हजार मृत्यु हुई हैं, प्रति 10 लाख पर 16264 केस हैं, प्रति 10 लाख पर 523 मृत्यु हुई हंै। मृत्यु दर 3.2 प्रतिशत और पाॅजिटिविटी 25.2 फीसदी है। 

 यह आंकड़े बताते हैं कि उत्तर प्रदेश ने दुनिया और देश की तुलना में बेहतर टीम वर्क के माध्यम से कोरोना पर नियंत्रण स्थापित किया है। उत्तर प्रदेश पहला राज्य है, जिसने अपने यहां के श्रमिकों, स्ट्रीट वेण्डर्स और गरीबों के लिए राहत की घोषणा की। प्रदेश में 34 लाख से अधिक निर्माण श्रमिक, स्ट्रीट वेण्डर्स, पल्लेदार, कुली, इन सबको भरण पोषण भत्ता देने का कार्य प्रारम्भ किया गया और उत्तर प्रदेश पहला राज्य है, जिसने उन गरीबों के लिए इस प्रकार के कार्य की योजना को लागू किया। फिर पूरे देश के अन्दर इस कार्यक्रम को लागू किया गया। उत्तर प्रदेश के अन्दर 18 करोड़ लोगों को अप्रैल माह से लेकर अब तक लगातार महीने में दो-दो बार खाद्यान्न उपलब्ध कराने का कार्य किया जा रहा है। 

 मुख्यमंत्री जी ने कहा कि कोरोना काल खण्ड में उत्तर प्रदेश पहला राज्य था, जिसने किसानों को किसी भी समस्या से बाधित नहीं होने दिया। समय पर फसल की कटाई हुई, हार्वेस्टर पहुंचे, रीपर पहुॅंचे, किसानों को कम्बाइन मशीन उपलब्ध कराने का कार्य किया। 119 चीनी मिलों और 2500 कोल्ड स्टोरेज को पूरी सुरक्षा के साथ संचालित किया गया। 25 मार्च को उत्तर प्रदेश में लाॅक डाउन होता है, 27 मार्च को दिल्ली बाॅर्डर पर उत्तर प्रदेश परिवहन निगम ने 3.5 से 04 लाख उत्तर प्रदेश वासियों को और बिहार वासियों को सुरक्षित उनके गांव या क्वारण्टीन सेण्टर तक पहुॅंचाने का कार्य किया। 

 मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रदेश के साढ़े 12 हजार बच्चे कोटा, राजस्थान में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे थे तो हम लोगों ने उन सभी बच्चों को उसी दौरान उत्तर प्रदेश परिवहन निगम की बसेज़ को लगा करके सुरक्षित उनके घर तक पहुॅंचाने का कार्य किया। इसी प्रकार प्रयागराज में 15 हजार छात्र प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे थे। उसमें भी कहीं कोई समस्या नहीं आई, उन सबको सुरक्षित उनके घरों तक पहुॅंचाने का कार्य भी उत्तर प्रदेश परिवहन निगम की बसेज़ से किया गया। मध्य प्रदेश, बिहार, उत्तराखण्ड, हरियाणा ने मदद मांगी तो वहां के लोगों को भी हमने उत्तर प्रदेश से सुरक्षित उनके राज्य में भेजने और पहुॅंचाने का कार्य किया। 

 मुख्यमंत्री जी ने कहा कि 36 लाख से अधिक प्रवासी, कामगार और मजदूर अलग-अलग राज्यों में काम करते थे, उनकी सुरक्षित वापसी के लिए उत्तर प्रदेश परिवहन निगम, भारतीय रेल ने आदरणीय प्रधानमंत्री जी की अनुकंपा से जो व्यापक कार्य योजना बनायी, उससे वह सभी लोग सुरक्षित आये। उत्तर प्रदेश आज के दिन तक जहां एक सुरक्षित स्थिति में है, वहीं आज के दिन तक सर्वाधिक टेस्ट करने वाला राज्य भी उत्तर प्रदेश है। आज के दिन तक लगभग 45 लाख के आस-पास टेस्ट उत्तर प्रदेश कर रहा है और यह सर्वाधिक टेस्ट हैं। 1 लाख 51 हजार से अधिक कोविड बेड्स उत्तर प्रदेश राज्य में हैंै। 

 मुख्यमंत्री जी ने कहा इन्फ्रास्ट्रक्चर और डेवलेपमेण्ट के कार्य तेजी से किए जा रहे हैं, कोरोना के कारण दुनिया की इकोनाॅमी पर असर पड़ा है, वहीं उत्तर प्रदेश विगत वर्ष जुलाई माह की तुलना में इस वर्ष जुलाई माह में राजस्व प्राप्ति में मात्र तीन प्रतिशत कम रहा है। प्रधानमंत्री जी ने 20 लाख करोड़ का पैकेज घोषित किया था। एमएसएमई विभाग ने दो लाख से अधिक यूनिट को दो हजार करोड़ रूपये से अधिक का ऋण वितरित किया था। उत्तर प्रदेश को अगले एक साल के अंदर 15 हजार करोड़ रूपये अपने एमएसएमई यूनिट को लोन के रूप में देना था और हम लोग अब तक 10 हजार करोड़ रूपये से अधिक का ऋण बांट चुके हैं।

 मुख्यमंत्री जी ने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार प्रत्येक मोर्चे पर कार्य कर रही है। यह हमारे लिए एक त्रासदी है लेकिन इस महामारी से लड़ते हुए भी उत्तर प्रदेश अगर 24 करोड़ लोगों के जनविश्वास का प्रतीक बना हुआ है तो हमें इस विश्वास को और मजबूती से आगे बढ़ाना है क्योंकि नवम्बर तक अभी खाद्यान्न की योजना जो महीने में दो बार देने की कार्यवाही चल रही है, इसको मजबूती के साथ आगे बढ़ाना है। मुख्यमंत्री जी ने कहा कि स्ट्रीट वेंडर के लिए बहुत अच्छी योजना आयी है। इस स्ट्रीट वंेडर की योजना के अंतर्गत 10 हजार का लोन प्रत्येक स्ट्रीट वेंडर को मिल जाता है तो एक बड़े आयोजन के माध्यम से उन लोगों को लोन मेला लगा करके लोन उपलब्ध करवाना और फिर डिजिटल पेमेण्ट के साथ आप उसको जोड़ दिया जाए तो उसके जीवन में नया परिवर्तन होता दिखायी देगा। 

 उत्तर प्रदेश का कोई राशन कार्ड धारक है अगर वह ऐसे किसी राज्य में जिसने अपने यहां ई-पाॅस मशीन लगायी है, तो अगर वह उत्तर प्रदेश में वह खाद्यान्न नहीं लेना चाहता, महाराष्ट्र में लेना चाहता है तो महाराष्ट्र में भी उसको मिल सकता है। यदि वह महाराष्ट्रवासी है अगर उसने वहां खाद्यान्न नहीं लिया है और वह अपने महाराष्ट्र में बने हुए राशन कार्ड से उत्तर प्रदेश में राशन लेना चाहता है तो उसको उत्तर प्रदेश में यह सुविधा प्राप्त हो सकती है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में नेशनल पोर्टिबिलटी का लाभ उत्तर प्रदेश वासी उस राज्य में भी पा रहे हैं, जहां ई-पाॅस मशीन की सुविधा उपलब्ध है। उन्होंने नेशनल पोर्टिबिलटी की व्यवस्था को लागू करने के लिए प्रधानमंत्री जी के प्रति आभार व्यक्त किया।

 मुख्यमंत्री जी ने कहा कि सड़कों के लिए एक व्यापक कार्ययोजना के सम्बन्ध में हम कार्य करने जा रहे हैं। इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेन्ट के लिए सबसे बड़ी आबादी का राज्य होने तथा अन्य राज्यों की तुलना में आर्थिक स्थिति मजबूत न होने के बावजूद पूर्वान्चल एक्सप्रेस-वे का काम तय समय-सीमा में पूरा होगा। उत्तर प्रदेश सरकार इस कार्य को तेजी से आगे बढ़ा रही है। बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे परियोजना तय समय-सीमा में पूरी होगी। डिफेन्स काॅरिडोर का काम तय समय-सीमा के अन्दर तेजी के साथ आगे बढ़ रहा है। मेरठ से प्रयागराज तक गंगा एक्सप्रेस-वे का कार्य राज्य सरकार अपने स्तर पर करा रही है। हमने भारत सरकार से मेरठ को हरिद्वार तक तथा प्रयागराज को काशी तक इस एक्सप्रेस-वे से जोड़ने का अनुरोध किया है। इससे हरिद्वार से काशी तक एक बड़ा काॅरिडोर दे देंगे, जो विकास का एक बहुत बड़ा गलियारा बनेगा। औद्योगिक विकास विभाग ने इन एक्सप्रेस-वेज़ को एक्सप्रेस-वे तक सीमित नहीं रखा है। इसमें जगह-जगह एम0एस0एम0ई, फूड प्रोसेसिंग तथा टेक्सटाइल आदि के अलग-अलग औद्योगिक क्लस्टर बनेंगे। 

 मुख्यमंत्री जी ने कहा कि ओ0डी0ओ0पी0 की योजना अत्यन्त प्रभावी है। आत्मनिर्भर भारत की परिकल्पना का आधार उत्तर प्रदेश में ओ0डी0ओ0पी0 योजना बनेगी। ओ0डी0ओ0पी0 उत्पादों की व्यापक पैमाने पर मार्केटिंग, ब्राण्डिंग तथा डिजाइनिंग के लिए एम0एस0एम0ई0 विभाग ने हर जनपद में सुविधा केन्द्र बनाने की अभिनव योजना प्रारम्भ की है। 

 मुख्यमंत्री जी ने कहा कोविड के साथ-साथ हम बाढ़ से भी जूझ रहे हैं। प्रदेश में 40 जिले बाढ़ की दृष्टि से संवेदनशील हैं। ऐसे कुछ जिलों के अपने भ्रमण का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि जनप्रतिनिधिगण नाव/स्टीमर आदि के माध्यम से गरीबों के बीच जाकर खाद्यान्न उपलब्ध करा रहे हैं। जिस जनप्रतिनिधि ने खाद्यान्न के पैकेट गरीब तक पहुंचाए, वह उसके लिए हमेशा यादगार बनेगा। लगभग 50 कि0ग्रा0 खाद्यान्न के पैकेट में 10 कि0ग्रा0 चावल, 10 कि0ग्रा0 आटा, 10 कि0ग्रा0 आलू, लाई, दाल, तेल, नमक, मिर्च-मसाला तथा केरोसीन की व्यवस्था की गई है। 

 मुख्यमंत्री जी ने कहा कि कोविड-19 से भी लड़ना है, बाढ़ से भी लड़ना है, हर प्रकार की आपदा से लड़कर हमें विजयश्री का वरण करना है। हर जनपद को कोविड-19 तथा बाढ़ की दृष्टि से पर्याप्त धनराशि उपलब्ध करायी गयी है। कहीं भी, किसी भी चीज़ की कमी होने नहीं दी जाएगी। उन्होंने कहा कि बाढ़ से भी बचाएंगे तथा कोविड से भी बचाएंगे। अपराधियों से तो उत्तर प्रदेश को पहले ही बचाया जा चुका है। इसे और भी मजबूती के साथ बचाने का कार्य किया जाएगा। 

 कानून-व्यवस्था के सम्बन्ध में उत्तर प्रदेश के आंकड़ों का उल्लेख करते हुए मुख्यमंत्री जी ने कहा कि वर्ष 2016 की तुलना में डकैती के मामलों में 74.5 फीसदी, लूट के मामले में 65.29 प्रतिशत, हत्या के मामले में 26.43 फीसदी, बलवा के मामले में 22.17 प्रतिशत, गृृह-भेदन में 12.69 फीसदी, रोड होल्ड-अप में 100 प्रतिशत की कमी आयी है। फिरौती के लिए अपहरण के मामलों में 54.55 फीसदी, दहेज मृृत्यु में 8.55 फीसदी, बलात्कार के मामले में 38.74 प्रतिशत की कमी आयी है। ये उत्तर प्रदेश के अन्दर घटते हुए आंकड़े हैं। नेशनल क्राइम रिकाॅर्ड ब्यूरो, भारत सरकार के क्राइम इन इण्डिया के आंकड़े प्रस्तुत करते हुए उन्होंने कहा कि डकैती के मामले में उत्तर प्रदेश का 31वां स्थान है। यानी देश के अन्दर 30 राज्य ऐसे हैं जहां पर उत्तर प्रदेश से ज्यादा डकैतियां पड़ती हैं। सबसे बड़ी आबादी का राज्य होने के बावजूद यह स्थिति है। लूट में 20वां स्थान है, हत्या में 26वां, नकबजनी में 32वां, बलात्कार में 24वां, शीलभंग में 14वां, पाॅक्सो अधिनियम में 23वां, महिला संबंधी अपराध में 15वां। ये आंकड़े हैं उत्तर प्रदेश के। ट्रिपल तलाक के मामलों में देश में सर्वाधिक एफ0आई0आर0 उत्तर प्रदेश ने की हैं, 1434 एफ0आई0आर0 हुई और 265 गिरफ्तार भी हुए। ट्रिपल तलाक के मामले का जिसने भी उल्लंघन किया और जबर्दस्ती उसने कानून के साथ खिलवाड़ किया तो इस मामले में देश के अन्दर सबसे अधिक कार्यवाही भी उत्तर प्रदेश ने की। महिला सुरक्षा के प्रति प्रदेश में प्रारम्भ की गई कार्यवाही को ले करके भी हम लोग इस कार्यक्रम को आगे बढ़ा रहे हैं।

 मुख्यमंत्री जी ने कहा कि पावर सेक्टर में बहुत बड़ा कार्य होने जा रहा है। उन्होंने विधायकों से विद्युतीकरण के लिए मजरों की पूरी सूची बनाकर उपलब्ध कराने का आह्वान करते हुए कहा कि एक अभियान चलाकर सभी मजरों तक विद्युतीकरण का कार्य प्रारम्भ कर एक साल में पूरा करवा दें। इसके लिए सरकार पूरा पैसा उपलब्ध कराएगी। पैसे की कोई कमी आड़े आने वाली नहीं है।

 मुख्यमंत्री जी ने विधायकों से ग्राम पंचायतों में ग्राम सचिवालय की स्थापना कराने, गांवों को टेक्नोलाॅजी से जोड़ने, प्रत्येक गांव के किसी पढ़ी-लिखी महिला को बैंकिंग काॅरेस्पाॅन्डेन्ट सखी योजना के साथ जोड़ने की अपील की। उन्होंने कहा कि जिन ग्राम पंचायतों में सामुदायिक शौचालय का निर्माण नहीं हुआ है, वहां ग्राम सचिवालय के पास या अन्य उपयुक्त स्थान पर सामुदायिक शौचालय का निर्माण कराएं। उन्होंने कहा कि स्वच्छ सर्वेक्षण 2020 में प्रदेश ने बहुत अच्छी रैंकिंग प्राप्त करते हुए सर्वाधिक पुरस्कार प्राप्त किए।

 मुख्यमंत्री जी ने कहा कि अध्यक्ष जी ने कोरोना कालखण्ड में सदन को चलाने का बहुत महत्वपूर्ण निर्णय लिया। यह हमारी संवैधानिक बाध्यता थी। सभी सदस्यों को हृदय से धन्यवाद देते हुए उन्होंने कहा कि हम लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए सदन की कार्यवाही को सफलतापूर्वक पिछले तीन दिनों के अंदर चलाया