ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय प्रादेशिक मन्डल जनपदीय तहसील ब्लॉक गाँव राजनैतिक अपराध
01 अक्टूबर, 2019 से उप खनिजों के लिए ई-एमएम-11 जारी होने से पहलेसी.सी.टीवी0 एवं तौल मशीन स्थापित करा ना अनिवार्य::-
September 27, 2019 • Sun India Tv News चैनल


जिलाधिकारियों को स्वीकृत खनन स्थलों पर तौल मशीन व सी0सी0टी0वी0 कैमरे स्थापित करने के निर्देश 

लखनऊः 27.09.2019

भूतत्व एवं खनिकर्म निदेशक, डा0 रोशन जैकब ने सभी जिलाधिकारियों को निर्देशित किया है कि 01 अक्टूबर, 2019 से उप खनिजों के लिए ई-एमएम-11 जारी होने से पहले यह सुनिश्चित कर लिया जाये कि स्वीकृत खनन स्थलों पर सी.सी.टीवी0 एवं तौल मशीन स्थापित करा लिये गये हैं। इसके साथ ही पट्टाधारक द्वारा पूर्व की समस्त देय धनराशि जमा कर दी गयी है। 

डा0 जैकब ने बताया कि आपकी (जिलाधिकारी) स्वीकृति के बाद ही खनन पट्टों में ई-एमएम-11 के जनरेशन हेतु ओ0टी0पी0 खोलने की कार्यवाही की जायेगी। उन्होंने जिलाधिकारियों से यह भी सुनिश्चित करने को कहा है कि 01 अक्टूबर, 2019 से उन्हीं वाहनों के लिए ई-एमएम-11 जनरेट किये जायें, जिन वाहनों का पंजीकरण भूतत्व एवं खनिकर्म विभाग के पोर्टल पर डाउनलोड कर लिया गया है। 

खनिज का परिवहन करने वाले वाहनों का खनिकर्म विभाग की वेबसाइट पर पंजीयन कराने एवं स्वीकृत खनन क्षेत्रों पर तौल मशीन व सीसीटीवी कैंमरा स्थापित करने के निर्देश 30 सितम्बर, 2019 तक दिये गये थे। 

उन्होंने बताया कि निदेशालय स्तर पर समीक्षा के दौरान यह पाया गया कि प्रदेश में उपखनिजों का परिवहन करने वाले वाहनों एवं उपखनिजों के स्वीकृत खनन स्थलों पर तौल मशीन एवं सीसीटीवी कैमरा लगवाकर उसका इण्टीग्रेशन कमाण्ड सेण्टर से किये जाने की कार्यवाही में उदासीनता और शिथिलता बरती जा रही है। उन्होंने बताया कि 01 अक्टूबर, 2019 से उपखनिज बालू/मोरम के खनन एवं परिवहन के खुलने हेतु एमएम-11 निर्गत किये जाने के लिए ओ0टी0पी0 खोलने से पूर्व यह सुनिश्चित कर लिया जाय कि स्वीकृत खनन स्थलों पर सीसीटीवी कैमरा एवं तौल मशीन स्थापित कर लिया गया है। 

यह स्थिति अच्छी नहीं है। इस ओर विशेष ध्यान देने की जरूरत है कि तौल मशीन और सीसीटीवी कैमरों का संचालन सुचारू रूप से हो रहा है।