ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय प्रादेशिक मन्डल जनपदीय तहसील ब्लॉक गाँव राजनैतिक अपराध
 एटा।ब्रेकिंग न्यूज़*ईसन नदी को पुनर्जीवित करने के उद्देश्य से डीएम ने किया औचक निरीक्षण*::--
February 7, 2020 • Sun India Tv News चैनल • जनपदीय

*ग्राम पंचायत, मनरेगा, सिंचाई विभाग द्वारा संयुक्त रूप से अभियान के रूप में होगी सफाई* 
-----------------------------------------

*ईशन नदी के किनारे जो भी अतिक्रमण है उसे सख्ती के साथ हटाया जाएगा*
-----------------------------------------------------

*सफाई के उपरान्त खुलने वाले जलश्रोतों से नदी में पानी आने के बाद किसान कर सकेंगे सदुपयोग-डीएम*
----------------------------------------------------

*नोडल अधिकारी श्रीमती अपर्णा यू0 की अध्यक्षता में कानून व्यवस्था एवं विकास कार्यक्रमों की समीक्षा बैठक संपन्न*
----------------------------------

*जल निगम के सहयोग से पालिका द्वारा निकाय क्षेत्र में जल निकासी के बेहतर इंतजाम किए जाएं*
--------------------------------------------------------

*जल निगम के सहयोग से पालिका द्वारा निकाय क्षेत्र में जल निकासी के बेहतर इंतजाम किए जाएं*
-----------------------------------

आमजनमानस को बेसिक सुविधाएं उपलब्ध कराने में किसी भी प्रकार की कोताही नहीं होनी चाहिए-नोडल अधिकारी*
--------------------------------------

 एटा। डीएम सुखलाल भारती ने अधिकारियों के साथ गुरुवार को देर शाम ईसन नदी को पुनर्जीवित करने के उद्देश्य से निधौलीकलां, अरथरा, जेड एच कॉलेज के समीप पुल पर पहुंचकर जायजा लिया। डीएम ने इस दौरान ईसन नदी को पुनर्जीवित करने के उद्देश्य से किये गए वृक्षारोपण कार्य का भी जायजा लिया। डीएम ने निर्देश दिये कि पेड़ो की देखभाल हेतु सिंचाई विभाग, क्षेत्रीय ग्राम पंचायतों द्वारा बेहतर प्रयास किया जाए। 

               *डीएम ने बताया कि* ईशन नदी की कुल लम्बाई लगभग 317 कि0मी0 है, इसका उद्गम स्थल एटा से 14 कि0मी0 दक्षिण पश्चिम की ओर नगला सुजान गॉव के पास सिकन्दराराऊ नाले के टेल पर है, साथ ही ईशन नदी अपने उद्गम स्थल से जनपद एटा, मैनपुरी, कन्नौज, कानपुर नगर से होकर गुजरती है। ईशन नदी हेतु जनपद एटा में पढ़ने वाली सीमा के अंतर्गत 14 किलोमीटर क्षेत्र का सफाई कार्य हेतु प्रस्ताव भेजा जा चुका है। जिला प्रशासन का प्रयास है कि नदी को हर हाल में साफ करवाया जाए, जिससे कि क्षेत्रीय किसानों को सिंचाई हेतु पानी की उपलब्धता सुनिश्चित हो सके।  ईशन नदी की सफाई के उपरान्त जल स्त्रोत खुल जायेंगे और नदी में पर्याप्त पानी उपलब्ध रहेगा। नदी किनारे जो भी अतिक्रमण है उसे सख्ती के साथ हटाया जाएगा।  

           *इस अवसर पर* सीडीओ मदन वर्मा, पीडी निर्मल कुमार द्विवेदी, डीसी मनरेगा पीसी यादव, अधिशासी अभियंता सिंचाई अजय कुमार भारती, एई सिंचाई भारत भूषण आदि मौजूद थे।

एटा। सचिव सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग, उत्तर प्रदेश एवं जनपद की नोडल अधिकारी श्रीमती अपर्णा यू0 ने शुक्रवार को अपने दो दिवसीय जनपद भ्रमण कार्यक्रम के दौरान सर्वप्रथम जिले के अधिकारियों के साथ कानून व्यवस्था एवं विकास कार्यक्रमों की समीक्षा बैठक की। उन्होंने बैठक के दौरान निर्देश दिए कि जनपद में यातायात व्यवस्था को और अधिक सुदृढ़ किया जाए, प्राइवेट चिकित्सकों की मदद से स्वास्थ्य सेवाएं और बेहतर की जाए जिससे कि आमजनमानस को स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ मिल सके।  जिले में चिकित्सकों की कमी के संबंध में शासन को अवगत कराया जाएगा। सीवरेज कार्य को गुणवत्तापूर्ण तरीके से पूर्ण कराया जाए, नगरपालिका की मदद से गलियों में, सड़कों पर  लेवलिंग बेहतर ढंग से की जाए, जिससे कि आमजनमानस को आवागमन में दिक्कत ना हो।

           *नोडल अधिकारी ने बैठक में निर्देश दिए कि* निकाय क्षेत्रों में जो भी ट्यूबेल खराब पड़े हैं उनको पालिका द्वारा जल्द से जल्द ठीक कराया जाए, इसके साथ ही जल निगम के सहयोग से शहरी क्षेत्र में जल निकासी के बेहतर इंतजाम किए जाएं। कहीं पर भी जलभराव की स्थिति उत्पन्न नहीं होनी चाहिए, नगरी क्षेत्र में आम जनमानस को बेहतर बेसिक सुविधाएं उपलब्ध कराने पर पुरजोर प्रयास किया जाए। खादी ग्रामोद्योग अधिकारी को निर्देश दिए कि गत 2 वर्षों में कितने लोगों को लोन किया गया, उसकी सूची उपलब्ध कराएं साथ ही यह सुनिश्चित करें कि वितरित की गई धनराशि का लाभार्थियों के द्वारा सदुपयोग किया जाए। 

          *नोडल अधिकारी ने कहा कि* जिले में अवैध शराब के खिलाफ सख्ती के साथ का छापामार कार्यवाही की जाए। अवैध शराब के निर्माण भंडारण एवं बिक्री में संलिप्त व्यक्तियों पर पुलिस की मदद से आबकारी विभाग द्वारा कड़ी कार्रवाई की जाए। एआरटीओ को निर्देश दिए कि प्रवर्तन कार्य में तेजी लाएं। सड़कों की सुरक्षा अति महत्वपूर्ण है इसके लिए आवश्यक है कि ओवरलोडिंग एवं अवैध वाहनों पर निरंतर कार्रवाई जारी रहनी चाहिए। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत निर्मित किए गए आवासों की टीम बनाकर गुणवत्ता सुनिश्चित किए जाने हेतु जांच की जाए। इसके साथ ही प्रधानमंत्री आवास योजना से जनपद में जो भी गरीब पात्र व्यक्ति वंचित हैं उनको सूचीबद्ध अवश्य किया जाना चाहिए।

            *डीएम सुखलाल भारती ने* बैठक के अंत में नोडल अधिकारी को आश्वस्त किया कि उनके द्वारा निर्गत दिशा निर्देशों का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित किया जाएगा। जो भी कमियां हैं उन्हें शीघ्र दूर करते हुए जनपद के विकास में सक्रिय भूमिका निभाई जाएगी।

            *इस अवसर पर* एसएसपी सुनील कुमार सिंह, सीडीओ मदन वर्मा, एडीएम वित्त एवं राजस्व किशोर कुमार, एडीएम प्रशासन विवेक कुमार मिश्रा, डिप्टी कलेक्टर एसपी वर्मा, डीडीओ एसएन सिंह कुशवाह, सीएमओ डॉ राम सिंह, पीडीडीआरडीए निर्मल कुमार द्विवेदी, डीएसटीओ रमेश चंद्र, अधिशासी अभियंता सिंचाई अजय कुमार भारती, डीआईओएस एमपी सिंह,  बीएसए संजय सिंह, एसई विद्युत संदीप मित्तल, समाज कल्याण अधिकारी रश्मि यादव,  पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी डॉली सिंह, ईडीएम अविरल तिवारी आदि मौजूद थे।
 *नोडल अधिकारी ने वाहिदबीबीपुर गौशाला, कैलाशगंज रोड एवं ईशन नदी पहुंच कर लिया जायजा*
-----------------------------------

एटा। नोडल अधिकारी श्रीमती अपर्णा यू0 द्वारा शुक्रवार को अपने दो दिवसीय भ्रमण कार्यक्रम के अंतर्गत अपराह्न में वाहिदवीवीपुर गौशाला पहुंचकर जायजा लिया गया।  नोडल अधिकारी ने इस दौरान निर्देश दिए कि पशुओं की देखभाल में किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरती जाए, उनके लिए हरे चारे एवं पीने के पानी आदि के इंतजाम बेहतर होने चाहिए। इसके बाद नोडल अधिकारी ने कैलाश गंज रोड का भी अधिकारियों के साथ निरीक्षण कर ईओ एवं जल निगम को निर्देश दिए कि सड़क को उठाकर बनाया जाए जिससे जलभराव की स्थिति उत्पन्न न हो, सड़क के दोनों किनारे नालियों का भी निर्माण कराया जाए जिससे कि जल निकासी में कोई असुविधा ना हो। 

              *नोडल अधिकारी ने* निधौली रोड स्थित ईशन नदी पहुंचकर निरीक्षण करते हुए अधिकारियों को निर्देश दिए  नदी के पुनरुद्धार हेतु बेहतर प्रयास किए जाएं। श्रमदान के माध्यम से नदी की साफ सफाई कराई जाए, इस कार्य हेतु मनरेगा की भी मदद ली जाए। शासन से जो भी नदी के पुनरुद्धार हेतु मदद की आवश्यकता है उसके लिए बेहतर प्रयास किए जाएंगे जिससे कि नदी का पुनरुद्धार हो सके और क्षेत्रीय किसानों को सिंचाई में मदद मिले।