ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय प्रादेशिक मन्डल जनपदीय तहसील ब्लॉक गाँव राजनैतिक अपराध
बिजली बचत हेतु मोबाइल वैन द्वारा जागरूकता  अभियान सुरु बिजली की बढ़ती मांग और खपत को दृष्टिगत रखते हुए सरकार ने अतिरिक्त ऊर्जा को दी प्रमुखता,बिजिली बचत का सबसे अच्छा उपाय अपने A/C को रखें 24-25 डिग्री सेंटीग्रेट तापमान पर -ब्रजेश पाठक (मन्त्री अतिरिक्त ऊर्जा स्रोत उत्तर प्रदेश सरकार)
August 19, 2019 • Sun India Tv News चैनल
 

   अतिरिक्त ऊर्जा स्रोत मन्त्त्री ब्रजेश पाठक ने नेेेडा  मुख्य्या्लय में मोबाईल वैन द्वारा बिजली बचत हेतु जागरूकता अभियान का झण्ड्डी दिखा कर किया शुभारम्भ:-
 

बिजली की बढ़ती मांग और खपत को दृष्टिगत रखते हुए सरकार ने अतिरिक्त ऊर्जा को दी प्रमुखता-ब्रजेश पाठक
 
लखनऊ: दिनांक: 18 अगस्त, 2019
 

मानव जीवन में आज बिजली का महत्व दिनो दिन बढ़ता ही जा रहा है। आधुनिक दौर में सामाजिक व आर्थिक विकास की धुरी बिजली की उपलब्धता बन गई है। इसके बिना अब विकास की कल्पना ही नहीं की जा सकती है।
यह विचार प्रदेश के अतिरिक्त ऊर्जा स्रोत मंत्री श्री ब्रजेश पाठक ने आज स्थानीय यूपीनेडा में ''एयर कंडीशनर का तापमान 24 डिग्री या उससे अधिक रखें'' विषयक संगोष्ठी के शुभारम्भ के उपरान्त जागरूकता कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए व्यक्त किए। उन्होंने इस अवसर पर जन जागरण हेतु जागरूकता वैन को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। उन्होंने कहा कि बिजली की बढ़ती मांग और खपत को दृष्टिगत रखते हुए ही राज्य सरकार ने वैकल्पिक ऊर्जा स्रोतों के विकास को प्रमुखता दी है। 
 
श्री पाठक ने कहा कि यह वैन पूरे प्रदेश में बिजली के उपयोग एवं बचत के बारे में आम लोगों को जागरूक करेगी। श्री पाठक ने कहा कि देश में वर्ष 2005 में व्यवसायिक फ्लोर स्पेस लगभग 425 मिलियन वर्गमीटर था, जिसमें लगभग 36 बिलियन यूनिट बिजली की खपत होती थी, जिसके आधार पर वर्ष 2017 में 1,114 मिलियन वर्गमीटर फ्लोर स्पेस आंकलित था जिसके लिए 241 बिलियन यूनिट विद्युत खपत आंकलित थी। इस प्रकार देश का विकास होने के साथ-साथ व्यवसायिक, घरेलू एवं अन्य सार्वजनिक भवनों का विकास होगा, जिससे बिजली की खपत लगातार बढ़ जाती है।
 
अतिरिक्त ऊर्जा स्रोत मंत्री ने कहा कि भवनों में सबसे ज्यादा विद्युत खपत एयरकन्डीशनर के कारण होती है। उन्होंने कहा कि यह आंकलित किया गया है कि एयरकन्डीशनर का तापमान 01 डिग्री बढ़ाने से लगभग 6 प्रतिशत विद्युत की बचत होती है। सामान्य तौर पर एयरकन्डीशनर का तापमान 18 से 21 डिग्री रखा जाता है, जो स्वास्थ्य के लिए उपयुक्त नहीं होता है। यदि एयरकन्डीशनर का तापमान 24-25 डिग्री सेंटीग्रेट रखा जाए, तो बिजली की बचत भी होती है और यह स्वास्थ्य के लिए भी उपयुक्त होता है। यदि हम एयरकन्डीशनर का तापमान 20 से 24 डिग्री कर देते है तो इस 04 डिग्री बढ़ोत्तरी के सापेक्ष हम 24 प्रतिशत बिजली की बचत कर सकते है।
 
 
श्री पाठक ने कहा कि इस प्रकार जन-भागीदारी से न केवल बिजली की बचत की जा सकती है वर्न कार्बन उत्सर्जन में भी कमी लाते हुए वातावरण में बढ़ते हुए तापमान को भी कम किया जा सकता है। उन्होंने लोगों का आह्वाहन किया कि सभी अपने घरो एवं कार्यालयों में एयरकन्डीशनर का तापमान 24 डिग्री या उससे अधिक रखें तथा अपने आस-पड़ोस के लोगों को भी इसके लिए प्रेरित करें। साथ ही इस सम्बंध में उन्होंने व्यापक स्तर पर जागरूकता अभियान भी चलाने के निर्देश विभागीय अधिकारियों को दिए। 
प्रमुख सचिव श्री आलोक कुमार ने बताया कि वैन द्वारा एयरकण्डीशनर का तापमान 24 सेंटीग्रेड अथवा अधिक रखने से ऊर्जा संरक्षण किए जाने के संदर्भ में जनमानस को जागरूक करने के लिए सकारात्मक पहल सभी के लिए उपयोगी एवं लाभप्रद होगी। उन्होंने बताया कि एसी का तापमान 24 सेंटीग्रेड रखे जाने पर लगभग 960 यूनिट की बचत तथा 6240 रुपये की वार्षिक बचत होगी।
निदेशक यूपीनेडा श्री सुशील कुमार पटेल ने इस अवसर पर बताया कि यह वैन 30 दिवसों में 23 जनपदों से गुजरेगी। वैन लगभग 2000 किमी. की दूरी तय करेगी। उन्होंने बताया कि इस अभियान से लगभग 40 प्रतिशत जनसंख्या को जागरूक किया जायेगा। 
 
सांस्कृतिक दलों द्वारा ऊर्जा संरक्षण पर आधारित प्रेरणास्पद कार्यक्रम का प्रस्तुतीकरण किया गया। 
इस अवसर पर सचिव यूपीनेडा श्री अनिल कुमार, वरिष्ठ परियोजना अधिकारी, श्री अशोक कुमार श्रीवास्तव तथा यूपीनेडा के अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे।