ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय प्रादेशिक मन्डल जनपदीय तहसील ब्लॉक गाँव राजनैतिक अपराध
प्रणव अंसल गिरफ्तारी अपडेट ::-कोर्ट ने प्रणव अंसल को 14 दिनों के लिए न्यायिक हिरासत में जेल भेजा।
October 1, 2019 • Sun India Tv News चैनल

: ब्रेकिंग- लखनऊ

प्रणव अंसल गिरफ्तारी अपडेट विभूतिखंड पुलिस ने आरोपी प्रणव अंसल को रिमांड मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया गया था

कोर्ट ने प्रणव अंसल को 14 दिनों के लिए न्यायिक हिरासत में जेल भेजा।

प्रणव अंसल की गिरफ्तारी के बाद पुलिस आरोपी प्रणव अंसल का  चिकित्सा परीक्षण कराने पहुँची थी पुलिस बल के बीच आरोपी प्रणव अंसल को लाया गया  था लोहिया अस्पताल।

प्रणव अंसल का कराया गया था लोहिया अस्पताल में मेडिकल विभूतिखंड पुलिस लेकर पहुँची थी अंसल को 

शिकंजे में प्रणव अंसल

कल कोर्ट में पेश किया गया था   सुशील अंसल.पुत्र..प्रणव अंसल पर अबतक 24 केस मिले,और केसेज़ की जाँच जारी....

: ब्रेकिंग, लखनऊ

राजधानी पुलिस की बड़ी कामयाबी है ,अंसल ग्रुप के मालिक व सुशील अंसल के पुत्र  प्रणव अंसल की गिरफ्तारी

लोगों के साथ पैसा हड़प कर धोखाधड़ी करने का था आरोप, एसएसपी कलानिधि नैथानी ने जारी करवाया था लुक आउट सर्कुलर,कही गरीबों का तो कहीं फौजियों का पैसा हड़पा था अंसल ग्रुप ने, लोगों का पैसा हड़प कर हिंदुस्तान से लंडन AI 161 फ्लाइट से भागने का था प्लान,

लखनऊ पुलिस द्वारा अपने विरुद्ध जारी लुक आउट सर्कुलर से अंजान था प्रणव अंसल,विभूतिखण्ड थाने में दर्ज हुई थी प्रणव अंसल पर 406,420,467,468,471,504,506 की धाराओं के एफआईआर,

 

2 दर्जन से अधिक दर्ज है प्रणव अंसल पर मुकदमे,

 दिल्ली में डिटेन हुआ था एसएसपी के निर्देश पर विभूतिखंड थाने की पुलिस  टीम एअरपोर्ट से गिरफ्तार कर के लाई थी गरीबो का पैसा हड़प कर विदेश भागने की फिराक में था प्रणव अंसल

प्रणव अंसल की जमानत अर्जी भी खारिज मेहनत की कमाई में लगाई सेंध

_  अंसल पुत्र सुशील अंसल मालिक सुशांत गोल्फ सिटी के यहां लखनऊ निवासी संजीव अग्रवाल व अन्य कई के साथ व उनके प्रतिनिधियों के कहने पर उनके लखनऊ के अंसल प्रोजेक्ट सुशांत गोल्फ सिटी में करोड़ों रुपए का इन्वेस्टमेंट किया और उसके बाद ना तो अंसल नहीं कोई जमीन दी और ना ही अब उनके पैसे वापस कर रहे हैं जो कि पूर्व चाबी मानी और धोखाधड़ी की दिशा को दर्शाता है जब इनके विरूद्ध संजय अग्रवाल व अन्य ने अंसल पर हजरतगंज थाना पीजीआई थाना विभूति खंड थाना पर अलग-अलग कई मुकदमे संख्या 419 420 467 468 की धाराओं में दर्ज हैं फिर भी वह पैसों के बल पर अपने आप को बचाता रहा और पुलिस से भी फरार रहा और आज तक पर 1 साल और सुशील अंसल ने किसी भी मैटर में कोई समझौता नहीं किया