ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय प्रादेशिक मन्डल जनपदीय तहसील ब्लॉक गाँव राजनैतिक अपराध
तीन दिवसीय अमृत ज्ञान वर्षा महोत्सव का लखनऊ के आशियाना में सुभारम्भ:-
September 21, 2019 • Sun India Tv News चैनल

अमृत ज्ञान वर्षा महोत्सव में ध्यान जिज्ञासुओं ने सीखीं स्वस्थवृत्त की विधाएँ 

पंचकोशों की शुद्धि निर्मल स्वास्थ्य के साथ व्यक्ति को आत्मिक उन्नयन की ओर बढ़ाती है  -डॉ.अर्चिका दीदी

अच्छा स्वास्थ्य परमात्मा की सबसे बड़ी नियामत 

लखनपुरी लखनऊ में आचार्य सुधांशु जी महाराज बोले 

सत्संग समारोह में अन्तरराष्ट्रीय शान्ति दिवस पर दिया गया विशेष सन्देश 

लखनऊ, २१ सितम्बर। यहाँ बंगला बाज़ार मार्ग पर रेलनगर मैदान में विश्व जागृति मिशन द्वारा आयोजित अमृत ज्ञान वर्षा महोत्सव में प्रातःक़ालीन स्वस्थवृत्त कक्षा को वरिष्ठ ध्यान-योग-गुरु डॉक्टर अर्चिका दीदी ने सम्बोधित किया। उन्होंने कहा कि पंचकोशों की शुद्धि निर्मल स्वास्थ्य के साथ व्यक्ति को आत्मिक उन्नयन की ओर बढ़ाती है। उन्होंने ध्यान के गुर सभी को सिखाए तथा योगासनों का प्रशिक्षण भी दिया। उन्होंने कास्मिक एनर्जी से गहरा तादात्मय बनाते हुए अपने व्यक्तित्व को ऊर्जावान बनाने को कहा। कहा कि ऊर्जावान मनुष्य ईश्वर को अतिप्रिय होते हैं।

विश्व जागृति मिशन के संस्थापक-संरक्षक आचार्य श्री सुधांशु जी महाराज ने निरोग जीवन की महत्ता सभी को समझायी और स्वस्थ रहने के यौगिक एवं आध्यात्मिक उपाय बताए। उन्होंने कहा कि उत्तम स्वास्थ्य मनुष्य को परमात्मा से मिली सबसे बड़ी नियामत है। मन पर भाँति-भाँति की गंदगी चढ़ाने के लिए अनेक व्यक्ति व शक्तियाँ सक्रिय रहती हैं। उन्होंने कहा कि सत्संग की गंगा में डुबकी लगाकर ही मन के मैल की धुलाई की जा सकती है।

श्रद्धेय महाराजश्री ने आज दुनिया भर में मनाए जा रहे अन्तरराष्ट्रीय शान्ति दिवस पर जनमानस को विशेष सन्देश दिया। कहा कि अशान्त व्यक्ति से जीवन में कोई बड़े काम नहीं हो सकते। परमात्मा शान्त-स्वरूप है और शान्ति-प्रदाता है, अपने इष्ट-आराध्य से शान्ति की कामना प्रतिदिन करने की
प्रेरणा देते हुए उन्होंने कहा कि ऐसे साधकों के पास परमात्मा से शान्ति की धार प्रवाहित होती है और वह व्यक्ति धन्य हो उठता है। उन्होंने कहा कि सुख और शान्ति एक दूसरे के पर्याय हैं। सुख वास्तव में शान्ति के ऊपर टिका करता है। शान्ति के बिना सुख की कल्पना करना भी व्यर्थ है।

विश्व जागृति मिशन के लखनऊ मण्डल की चेयरपर्सन श्रीमती मीनाक्षी क़ौल ने बताया कि अमृत ज्ञान वर्षा का यह विशेष कार्यक्रम रविवार की सायंकाल तक चलेगा। मण्डल प्रधान श्री बी.के.पाण्डेय ने बताया कि कल २२ सितम्बर को मध्यांहकाल १२ बजे से सद्गुरुदेव द्वारा सामूहिक मन्त्रदीक्षा प्रदान की जाएगी।


 लखनऊ में चल रहे विराट ज्ञान यज्ञ में भारी संख्या में लोग उमड़े

 

विधि मंत्री, आयुष मंत्री तथा महिला कल्याण मंत्री सहित अनेक गणमान्य व्यक्तियों ने सुना सत्संग

अमृत ज्ञान वर्षा महोत्सव का दूसरा दिवस

लखनऊ, २१ सितम्बर। विश्व जागृति मिशन के लखनऊ मंडल द्वारा यहां आशियाना के रेल मैदान में आयोजित तीन दिवसीय अमृत ज्ञान वर्षा महोत्सव के दूसरे दिवस की संध्या में मिशन प्रमुख आचार्य श्री सुधांशु जी महाराज ने मंत्र जप का ज्ञान - विज्ञान ज्ञान जिज्ञासुओं को समझाया। हजारों की संख्या में सत्संग स्थल पर मौजूद लखनऊ वासियों से उन्होंने कहा कि जप के साथ मंत्र-सिद्धि के उपाय करना बहुत जरूरी है। उन्होंने ध्यान का महत्व का भी ज्ञान सभी को दिया।

उत्तर प्रदेश सरकार के विधि मंत्री श्री बृजेश पाठक, आयुष मंत्री श्री धर्म सिंह सैनी और महिला कल्याण एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती स्वाति सिंह सहित अनेक अति विशिष्ट व्यक्तियों की उपस्थिति में श्री सुधांशु जी महाराज ने कहा कि व्यक्ति अपनी आदतों के कारण ऊंचा उठता या गिरता है। जैसी आपकी आदतें होती है वैसे ही आप बनते हैं। आपका प्रभु कोई और नहीं खुद आप ही हैं। उन्होंने कहा कि जिसमें आप जीवन भर रहते हैं उसका सदैव ध्यान रखिए।

श्रद्धा, संयम, नीति, नियम, योग, उपयोग, उल्लास, युक्ति, भक्ति, शान्ति आदि को बड़ी ताकत बताते हुए श्री सुधांशु जी महाराज ने कहा कि इनकी साधना करने वाले लोग जीवन पथ पर बहुत ऊंचे उठते हैं। उन्होंने कहा कि जिसके दर पर पीड़ित के आंसू रुक जाते हैं वह दर भगवान का द्वार होता है। मुस्कराहट की शक्ति पर चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि रोने से आंसू भी पराए हो जाते हैं, लेकिन मुस्कराने से पराए भी अपने बन जाते हैं।

विश्व जागृति मिशन नई दिल्ली के निदेशक श्री राम महेश मिश्र के समन्वयन एवं संचालन में चले सत्संग समारोह में मिशन की चेयरपर्सन श्रीमती मीनाक्षी कौल, मंडल प्रधान श्री बी. के. पांडेय, संयोजक श्री मनोज शास्त्री, महर्षि वेदव्यास उपदेशक महाविद्यालय दिल्ली के प्राचार्य डॉ. सप्तर्षि मिश्र सहित विजामि परिवार के अनेक सदस्य अमृत ज्ञान वर्षा महोत्सव में मौजूद रहे।