ALL अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रीय प्रादेशिक मन्डल जनपदीय तहसील ब्लॉक गाँव राजनैतिक अपराध
उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने व्यापार मण्डल के प्रतिनिधियों से की वार्ता जन समस्याओं के त्वरित निस्तारण के दिये निर्देश;--
September 21, 2019 • Sun India Tv News चैनल

बाढ़ पीड़ित सेवा राहत सामग्री वितरण कार्य हेतु लगायी गयी गाड़ियों को हरी झण्डी दिखाकर किया रवाना

लखनऊ, दिनांक 20 सितम्बर 2019

उ0प्र0 के उप मुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य ने आज अपने प्रयागराज आवास पर जन सुनवाई की। जन सुनवाई के दौरान तमाम लोगों ने अपनी समस्याएं उनके समक्ष रखी। उन्होंने लोगों से सीधे संवाद करते हुए उनकी समस्याएं सुनी तथा उनके त्वरित व समयबद्ध निस्तारण के निर्देश सभी संबंधित अधिकारियों को दिये। जनता दर्शन के उपरान्त व्यापार मण्डल के सदस्यों के साथ बैठक कर उनकी समस्याएं सुनी तथा उनकी समस्याओं को जल्द से जल्द निदान करने का भरोसा दिलाया।

उप मुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य ने अपने आवास से बाढ़ पीड़ित राहत सामग्री विवरण कार्य हेतु लगायी गयी गाड़ियों को झण्डी दिखाकर रवाना किया। उन्होंने कहा कि सरकार बाढ़ पीड़ितों के लिए हर संभव सहायता कर रही है।

*नाबार्ड वित्त पोषित आर0आई0डी0एफ0 योजना के अन्तर्गत रू0 31 करोड़ 08 लाख 44 हजार की धनराशि की गयी अवमुक्त*


लखनऊ, दिनांक 20 सितम्बर 2019

उ0प्र0 के उपमुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य के निर्देश पर उ0प्र0 शासन द्वारा नाबार्ड वित्त पोषित आर0आई0डी0एफ0 योजना के अन्तर्गत 7 सेतुओं के चालू कार्यों हेतु रू0 31 करोड़ 08 लाख 44 हजार की धनराशि अवमुक्त की गयी है।

प्रमुख सचिव, लोक निर्माण विभाग श्री नितिन रमेश गोकर्ण ने यह जानकारी देते हुए बताया कि इस सम्बन्ध में उ0प्र0 शासन के लोक निर्माण अनुभाग-9 द्वारा शासनादेश जारी कर दिया गया है। शासनादेश में बताया गया है कि इन पुलों की स्वीकृत लागत रू0 153 करोड़ 19 लाख 89 हजार है, इसमें सेतु अंश की लागत धनराशि रू0 139 करोड़ 52 लाख 33 हजार व पहुंच मार्ग की स्वीकृत लागत रू0 13 करोड़ 67 लाख 56 हजार है। इन सात सेतुओं में 1-1 सेतु कानपुर नगर, बरेली, शाहजहाॅपुर, बदायुं व फतेहपुर में तथा 02 सेतु प्रतापगढ़ में बनाए जा रहे हैं।

जारी शासनादेश में प्रमुख अभियन्ता (विकास) एवं विभगाध्यक्ष, लो0नि0वि0, उ0प्र0 श्री वी0के0 सिंह को निर्देशित किया गया है कि यह धनराशि निर्धारित परियोजनाओं पर मानक एवं विशिष्टियों के अनुरूप व्यय की जायेगी तथा इसका उपयोग अन्य किसी प्रयोजन के लिये नहीं किया जायेगा।